"

Save Humanity to Save Earth" - Read More Here

Monday, March 11, 2013

पानी केरा बुलबुला


निर्गम अनजान बीहड़ में कही
एक अनघड जंगली फ़ूल
सोचता हूँ कितनी होंगी
उसकी महत्वकांछाये!

अरबो की भीड़ में
मिटटी का पुतला, अदना इन्सान
अगले पल एक मांस पेशी धडकी
साँस आई और गई, तो जिया।
फिर भी कितने सपने
कितनी आकांछाये !

दोनों दो पल के।
फिर गिर जाना हैं।
आदम क्यों नहीं समझता
उसे भी जाना हैं।

विडम्बना ये हैं
मुरझाने से पहले
वो फूल तो खिलता हैं।
महकता हैं।
सार्थक होता हैं
किन्तु जाने से पहले
आदम, इन्सान नहीं बन पाता हैं।
दुसरे की आँखों से जीता
क्यों नहीं खिल पाता हैं।

नम पलके लिए, सोचता हूँ.
आदम, क्यों नहीं खिल पाता  हैं।

3 comments:

  1. खिलना और मुरझाना है,
    जीवन फिर क्यों सकुचाना है।

    ReplyDelete
  2. सच बहुत बाद में समझ आता है मानुष को ..
    बहुत बढ़िया सार्थक...

    ReplyDelete

Do leave your mark here! Love you all!