"

Save Humanity to Save Earth" - Read More Here

Sunday, May 24, 2015

जीवन


कब कोई कोरे पन्नो को पढ़ पाता हैं।
कब कोई ख़ामोशी को सुन पाता हैं।

शोरगुल , भीड़ और आपाधापी के बीच।
भीतर एक सन्नाटा हैं।

लिखते लिखते यु ही।
अश्क अक्सर ढल जाते हैं।

जीवन भागता रहता हैं।
क्या हम समझ पाते हैं.

-राहुल

4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (25-05-2015) को "जरूरी कितना जरूरी और कितनी मजबूरी" {चर्चा - 1986} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  2. कम शब्दों में गहरी बात

    ReplyDelete

Do leave your mark here! Love you all!